Pages

Google+ Badge

Saturday, July 6, 2013

अज़ीज़ जौनपुरी :तेरा शहर कितना अज़ीज़ है

                              तेरा शहर कितना अज़ीज़ है 


   

                             सभी   दोस्त   हैं   सभी    करीब  हैं   तेरा  शहर  कितना अज़ीज़  है 
                             तू  मेरी   जिंदगी   की   किताब   है   तेरा    इश्क    मेरा   नसीब है

                             तू  ही मेरा अक्स है तू ही मेरा आईना,तू तू  ही है दिल के करीब  है 
                             तेरी  जुस्तज़ू   तेरा  इश्क  है  ,तू   हीं  हम  सफर   तू  हीं   हबीब है 

                              ये  फासला  भी  कोइ   फ़ासला  तू  दिल  में  है   दिल  के करीब है 
                              जो    तय   कभी   न   हो   सकी  ये   कैसी   जिंदगी  की   ज़रीब है 
 
                              तेरी   चाहतें   तेरी   उल्फतें  तू   ये   न  पूछ    कितनी   अज़ीब है                        
                              तू , तेरी  ख्वाहिशें,  तेरी  हसरतें,   मेरी   जिंदगीं   मेरी  मुजीब हैं 

                              तू, तेरी शरारतें, तेरी इनायतें,    कभी   दोस्त   तो  कभी  रक़ीब हैं 
                              "अज़ीज़"   तेरी  ग़ज़ल में एक चेहरा है छुपा जो तेरे दिल के करीब है  

                              

                                                                                                   अजीज़ जौनपुरी