Pages

Google+ Badge

Monday, March 11, 2013

अज़ीज़ जौनपुरी :अपना चेहरा देखो

               अपना चेहरा देखो 

              बारहां इलज़ाम मुझ पर लगाने वालों                                                                                                       धूल चेहरे का हटा, अपना चेहरा देखो 
  
              बा -  उसूल   खुद   को   बताने  वालों
              दो  कदम  उसूलों  पे  चल  कर  देखो 
               
              गर्द  तो  चेहरे   पर   ज़मी   है  उनके   
              औ, इलज़ाम आईने  पे लगाना  देखो 

               जिस्म तो  ख़ाक हो जायगा एक दिन 
               राहे- फकीरे-  इश्क पर चल कर देखो 
             
               गुरुरे-हुश्न का नशा कल उतर जायगा  
               आईने-दिल  में  जरा  झाँक  कर देखो 

               झूँठ तेरा  आज  बलंद हो चाहे कितना 
               कल जरा  झूँठ का चेहरा उतरना देखो 

              रंग  चेहरे  का उतर जायगा  पल भर में 
              अपने  दिल पर जरा हाथ रख कर देखो 

              आज कर लो तौबा अपनी हैवानियत से 
             जरा"अज़ीज़"की ऊँगली पकड़ कर देखो

                                                 अज़ीज़ जौनपुरी