Pages

Google+ Badge

Tuesday, March 12, 2013

अज़ीज़ जौनपुरी : चेहरा धड़ से अलग देख रहा हूँ

                  चेहरा धड़ से अलग देख रहा हूँ 


             अपना   चेहरा   पूरा   नंगा,  चेहरे   पर   रंगीन   नकाबें 
             लिए   हाथ   ख़ुद  पत्थर  मैं  अपना  चेहरा   देख  रहा हूँ

              ख़ुद  के  भीतर  नफ़रत  की  यह  कैसी  दिवार खड़ी है 
              कर  ख़ुद को  बेशर्म  आज  ख़ुद  को  नंगा   देख  रहा हूँ 

              मेरे   माथे  पर  गुनाह   की  एक  नहीं   हज्जार लकीरें 
              हर सलवट पर लिखे गुनाह को  रह-रह कर देख रहा हूँ 
             
               लगी  शर्त  है  हर चेहरे  में  देखो  कौन बड़ा कातिल है 
               हर  कातिल का  चेहरा अपने  चेहरे  में  मैं  देख रहा हूँ

               बताते   जा    रहा   हूँ    ख़ुद   को   मील   का   पत्थर    
               कदम - कदम   पे   ख़ुद   का   फिसलना   देख  रहा हूँ
         
              न  बन  सका  कोई  हर्फ़  मेरे दिल का आईना ता-उम्र
              आज  "अज़ीज़" का  चेहरा  धड़  से   अलग देख रहा हूँ 
           
                                                               अज़ीज़ जौनपुरी